Banner Ads

शाहसी बंदर की कहानी- The story of brave monkey

कहानी उस वक़्त की जब जंगल में Monkey's रेह्ते और अपना इतिहास बनाते. The story of brave monkey.  it's story of 

Start

एक जंगल में कुछ मंकी'स का झुंड रहता था. कुछ न कुछ बातों से रोज ज़गड़ते एक दिन उन बंदरो मैं किसी बात पर बहुत बड़ा झगड़ा हो गया और बात उस તક પહોચગઈ  के उनलोगो को दाल बनाना पड़ा और दाल का महाराजा चुनना पड़ा उन लोगो ने एक गेम पसंद किया उस गेम में एक तालाब के बीचों बीच एक लकड़ी और लकड़ी पर पूरा तेल लगा दिया और सरत ये राखी के इस पर चढ़ना और अपने दल का चुनाव करना सब बंदरों ने शर्त मंजूर की और उस चुनौती का बहुत बेसब्री से इंतजार किया और एक दिन वो समय आ ही गया.

एक अच्छा बंदरगाह उस तालाब के पार पहुँचता है. और देखता है के बन्दर जगद रहे है तो उसने सोचा कि सब लोग एक एक करके लकड़ी पर जायेंगे और अपने दल का चुनाव करेंगे. उन्होंने कुछ दल बनाया और दाल में से हर दो दो बंदर लकड़ी की ऊपर जायेंगे. सब दल वाले दो दो बंदर पूरी तरह से कोसिस करते और लकड़ी पर चढ़ते लेकिन दूसरे बंदर चिलाते और मजाक बनाते तो वो बन्दर गिर जाते कोई आधे तक पोहचता तो कोई चढ़ ही नहीं पता.

यही देखते देखते शाम होने आयी कोई भी बंदर चढ़ नहीं पाया था. तब एक दल का बंदर आया जिसका नाम चुनु था उसने आकर तो पहले लकड़ी को देखा फिर कुछ सोचा तब धीरे धीरे चढ़ने की कोसिस करने लगा. जोर जोर से आवाजें आती चुनु गिरा चुन गिरा कोई कहता चुनु रुकजा नहीं कर पायेगा तो कोई कहता गिरे गा तो मर जायेगा लेकिन वो चढ़ ते ही गया चढ़ते ही गया धोड़ी देर मैं ही वो लकड़ी के ऊपर वाले सिरे पर पोहच गया. 

सारे बंदर देखते रहगये सब सोच में पड़ गए के से, कैसे चुनु ने कर दिया कि कोई बंदर नहीं कर सका, कैसे इतना सोर मैं भी नहीं कोई इसे गिरा सका, कैसे किया होगा ये. चुनु ने ऊपर चढ़कर सबको हैरान  कर दिया  सब चौक गए. चुनु ने अपने दल का चुनाव किया सब साथी बनाये और चुनु अपने दल का ही नहीं पुरे बंदर समाज का राजा भी बना.

Main Part Of Story

जब चुनु ऊपर से नीचे उतरा तब सबने पूछा ये तुमने कैसे किया तब सब ने यही पूछा सब ने कोसिस की तुमे गिराने की पर तुम गिरे ही नहीं. बात यहाँ सुरु हुई जब सब उससे पूछ रहे थे तब किसीने पीछे से बोला अरे हो भाई इसे क्या पूछ रहे हो ये सुन ही नहीं सकता. ये चुन्नू बचपन से बहरा है. इसे कुछ भी सुनाई नहीं देता.

Conclusion

देखा दोस्तों ये था हमारा चुनु बंदर जो अपने लक्ष तक पोहचा. जैसे चुनु  दूसरों की बातें नहीं सुनता और आगे बढ़ता वेसे हमें भी आगे बढ़ना चाहिए. दुसरो की ख़राब बातें हमें हर समय लक्ष के बारे मैं सोचना चाहिए नाकि दूसरों की नकारात्मक सोच लेनी चाहिए. अगर हर समय सही रास्ता और सही लक्ष्य को ही याद रखे तो हम भी चुनु की तरह अपने अपने लक्ष्य तक पहोच सकते है. वैसे भी वो कहते है ना positive ways, positive thinking, positive ideas it's way to success.

This is the best kids story in Hindi. You want to More story's than Hit. The Motivational Story Of labor Girl 

About author

I am Sunil Patel. I am write some trending and useful stories for you. I am marketing expert and story's writer I am  wrote kids story's in Hindi and English. You like this story's so please share and follow the blogs.


kids story in hindi



  Written By,

Sunil




Post a Comment

0 Comments

Search This Blog

Breaking

Fashion

Sports

Technology

Technology

Featured

Technology

; //]]>